रात दहशत में है डूबी, ढले तो कुछ सोचें

रात दहशत में है डूबी, ढले तो कुछ सोचें
सर से ये ज़ुल्म का तूफां, टले तो कुछ सोचें,

लगी है फिरकापरस्ती की आग घर-घर में
खुलूसो-प्यार की शम्आ, जले तो कुछ सोचें,

सहीफा कैसे अख़ुव्वत का मैं लिखूँ तनहा
मिलें जो हिन्दू-मुसलमाँ गले तो कुछ सोचें,

जफा वो ज़ुल्म से मुँह मोड़कर अगर यारो
जमाना राह-ए-वफा पर चले तो कुछ सोचें,

दरार उनके मेरे दरम्याँ है जिनसे वो जय
‘उमेश’ हल हों अगर मसअले तो कुछ सोचें